बंबई मैं का बा Bambai Main Ka Ba Lyrics | Manoj Bajpayee

बंबई मैं का बा Bambai Main Ka Ba Lyrics in Hindi is written by Dr. Sagar. Bambai Main Ka Ba song sung by Manoj Bajpayee. Music is given by Anurag Saikia.

Song : Bambai Main Ka Ba
Writer : Dr. Sagar
Singer : Manoj Bajpayee
Music : Anurag Saikia

Bambai Main Ka Ba Lyrics

बंबई मैं का बा Bambai Main Ka Ba Lyrics in HINDI

इहवा का बा ?
दू बिगहा मे घर बा लेकिन सुतल बानी टेम्पू में
जिन्दगी एही गजबेल बाटे नून तेल और सेम्पू में

मनवा हरिहर लागे भैया हाँथ लगौते माटी में
जियरा आजबो अटकल बाटे घर में चोखा बाटी में
का बा ?….. इहवा का बा?

जिंदगी हमटे जिए चाही बानी खेत बगइचा बारी में
छोड़ छाड़ सब अईले बानी हम इहवा लाचारी में

कहाँ ?…. बम्बई में का बा ?
इहवा का बा ? …. बम्बई में का बा ?

बनके हम सिकोरिटी वाला डबल डूएटीए काटातानी
ढिबरी के बाती जैसे रोज रोज हम घाटातानी

केकरा इतना शौक बाते मच्छर से कटवावे के
के चाहेला आपने के येही तरह नर्बसावे के

का बा….? इहवा का बा ?
इहवा का बा ? …. बम्बई में का बा ?

गावों शहर के बिचवा में हम गजबे कन्फुजियैल बानी
दू जून के रोटी खातिर बोम्बे में हम आइल बानी

ना ता बम्बई में का बा ? इहवा का बा ?
इहवा का बा ? …. बम्बई में का बा ?

घी दूध और माठा मिसरी मिलेला हमरा गावे में
लेकिन इहवा काम चलत बा खाली भजिया पावे में
खईबू का ?
का बा ? …. इहवा का बा ?

काम काज न गावों में बाटे मिलत नहीं नौकरिया हो
देखा कैसे हाकत बाड़े जैसे भेड बकरिया हो

बम्बई में का बा? इहवा का बा ?……..
बम्बई में काबा ?

काम धाम रोजगार मिले ता गौए सड़क बनाइए दी जाये
जिला जवाडी छोड़ इहवा ठोकर खावे काओं जाये

बम्बई में का बा?…… इहवा का बा ?
बम्बई में का बा?…… इहवा का बा ?

के से केहू दुखवा बाटी हम केतना मजबूर हाई!
लड़िका फड़िका मिहरारु से एक बरस से दूर हाई
के छोड़ले बा यह तरह हमहन के लाचारी में
अपना छोटकी भूचिया के भर ना सकी अकवरी में

बुड पुरनिया माई बाबू ताल तलैया छूट गइल
केकरा से दिखलाई मनवा भितरे भितरे टूट गइल

बम्बई में का बा ? …….. इहवा का बा ?
ना ता बम्बई में का बा ?……. इहवा का बा ?

हस्वा और खाची बरुवा बड़की चोख कुदार मुहार
लमहर चाखर घर दू तलिया हमरो ये सरकार ओहा

हमरे हाँथ बनावल बिल्डिंग आसमान के छुअत बे
हमते झोपड़ पट्टी वाला हमरे खोली छुअत बे

का बा ?….. इहवा का बा ?

आके देखा सहरिया बबुआ का भेड़िया ता साल लगे
मुर्गी के दरवा में जैसे फसल सभी के जान लगे

बम्बई में का बा ?
इहवा का बा ? ….. बम्बई में का बा ?

इतना मोहला जियत पर भी फुटल कौड़ी मिलल ना
लौना लकड़ी खर्ची बरछी घर के कमवा जूरत ना
महानगर के तौर तरीका समझ में हमरा आवे ना
घडी घडी पे डाटे लोगवा ढंग से केहू बतावे ना

हां ता बम्बई में का बा ?…….. बम्बई में का बा ?
इहवा का बा ? ……. बम्बई मे का बा ?

जबरा के हँथवा में भैया नियम और कानून भा
छोट छोट बतियन पर हू कै देहला हूँ खून भा

ये समाज में देखा केतना ऊंच नीच के भेद हवे
उनका खातिर संविधान में ना कउनो अनुच्छेद हवे

इहवा का बा?…….. बम्बई में का बा ?
बम्बई में का बा ?…… अरे बम्बई में का बा ?

बेटा बेटी लेके गावे जिंदगी जियल मुहाल हवे
ना नीमन स्कूल कही बा ना ही अस्पताल हवे

हां ता बम्बई में का बा ? …….. बम्बई में काबा ?
इहवा का बा?…. बम्बई में का बा ?

जुल्म होत बा हमनी सनवा केतना अब बर्दाश करी
देश के बड़का हाकिम लोग अब कैसे विश्वास करी

हम तो भुईन्या लेकिन तोहरा बहुते उच सिंघासन बा
सब जानेला केकरा चलते ना घरवा में रासन बा

इहवा का बा? बम्बई में का बा ?….
इहवा का बा ? अरे बम्बई में का बा ? …..

ऐ साहिब लोग, ऐ हाकिम लोग
ऐ हाकिम लोग, ऐ साहिब लोग

हमरो कुछ सुनवाई बा
गाँव मे रोगिया मरत बाड़े मिलत नहीं दवाई बा

बम्बई में माँ बा ?….
इहवा का बा ? अरे बम्बई में का बा ? …..

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *