गरीबी मिडिल क्लास मे Garibi Middle Class Me Lyrics | Elwin

गरीबी मिडिल क्लास मे Garibi Middle Class Me Lyrics in Hindi is written by Elwin starring Elwin & Manisha Vyas. Garibi Middle Class Me song sung by Elwin. Music is given by Elwin

Song : Garibi Middle Class Me
Writer : Elwin
Starring : Elwin & Manisha Vyas
Singer : Elwin
Music : Elwin

Garibi Middle Class Me Lyrics

Garibi Middle Class Me Lyrics in ENGLISH

Zindagi Meri Thi Adhuri Middle Class Me
Nikla Tha Ghar Se Door Kuch Paane Ki Firat Me
Kami Bhi Meri Na Kahi Likhi Thi Keetab Me
Mehnat Ke Chalte Maine Dhoondha Khud ko Ajj Me

Jindagi Ki Aas Me Majboori Thi Agash Me
Bechaini Meri Jhuke Aandhi Aur Toofan Me
Bekhabar Raasto Pe Baitha Tha Nirash Mai
Kho Chuka Tha Mai Sab Kuch Manjil Ki Talash me
Manjil Ki Talash me Manjil Ki Talash me

Faaslo Par Kishmat Padte Hausle Anjaan
Kyo ki Kaam Ke badle Nikle Apne Hi Baimaan
Kaise Dhundhoo Mai Tarike Taaki Zindagi Asaan
Kyu Na Bheed Me Banegi Aakhir Meri Pehchaan

Ek Pehchaan Ke Liye Khud ko Hi Daw Pe Lgaya
Aur Baap Ki Kamayi Apni Mehnat Me Bahaya
Meri har Ek Galti Pe Maine Khud ko hi Samjhaya
Aur Dikhaya Apne Aapko Asal Me Khudko Hi Paaya

Laaya Aesa Ek Din Jisme Kiskhmat Ko Ajmaya
Par Kishmat Ke Khulte Hi Naseeb Ko Gawaya
Phir Umeed Ke Sahare Maine Sapno Ko Sajaya
Chahe Jhootha Kyu Na Ho Sabko Sach Hi Btaya

Akhir Kab Tak Chalta Raho Jhoota Bankar Kab Tak
Zindagi Me Aesa Kuch Paa Na Lo Tab Tak
Paakar Bhi Mila Kya Mujhko Phir Ab Tak
Geerta Raho Sehta Raho Aakhir Kis Had Tak
Aakhir Kis Had Tak, Aakhir Kis Had Tak, Aakhir Kis Had Tak

Mehnat Bekar Kishmat Bhi Footi
Dosti Yaari Meri Sab Nikle Jhooti
Milna Mushkil Tha Ek Waqt Ki Rooti
Mujhko Ab Lag Rhi Thi Ye Duniya Chhoti

Kabhi Gam ke Ssye Me Maine Kaate The Din Raat
Jawab Dene Lage Mujhe Wakt Ke Halat
Na Bane Koi Baat Na Kisi Ka Sar Pe Haath
Takleef Me Na Diya Kisi Ne Saath
Mai Bhatakta Raha Banke Jinda Laash

गरीबी मिडिल क्लास मे Garibi Middle Class Me Lyrics in HINDI

जिंदगी मेरी थी अधूरी मिडिल क्लास मे
निकला था घर से दूर कुछ पाने की फिरात मे
कमी भी मेरी न कही लिखी थी किताब मे
मेहनत के चलते मैंने ढूंढा खुद को आज मे

जिंदगी की आश मे मजबूरी थी आगाश मे
बेचैनी मेरी झुके आँधी और तूफान मे
बेखबर रास्तो पे बैठा था निराश मै
खो चुका था मै सबकुछ मंजिल की तलाश मे
मंजिल की तलाश मे मंजिल की तलाश मे

फ़ासलों पर किस्मत पढ़ते हौसले अंजान
क्योकि काम के बदले निकले अपने ही बेईमान
कैसे ढूंढू मै तरीके ताकि जिंदगी आसान हो
क्यो भीड़ मे बनेगी आखिर मेरी पहचान

एक पहचान के लिए खुद को दाव पे लगाया
और बाप की कमाई अपनी मेहनत मे बहाया
मेरी हर एक गलती पर मैंने मैंने खुद को ही समझाया
और दिखाया अपने आप को असल मे खुद को ही पाया

लाया ऐसा एक दिन जिसमे किस्मत को अजमाया
पे किस्मत के खुलते नसीब को गवाया
फिर उम्मीद के सहारे मैंने सपनों को सजाया
चाहे झूठा क्यो न हो सबको सच ही बताया

आखिए कब तक चलता रहे झूठा बनकर कब तक
ज़िंदगी मे ऐसा कुछ पा न लो तब तक
पाकर भी मिला क्या मुझको फिर अब तक
गिरते रहो सहते रहो आखिर किस हद तक
आखिर किस हद तक आखिर किस हद तक
आखिर किस हद तक

मेहनत बेकार किस्मत भी फूटी
दोस्ती यारी मेरी सब निकली झूठी
मिलना मुसकिल था एक वक्त की रोटी
मुझको अब लग रही थी ये दुनिया छोटी

कभी गम के साये मे मैंने काटे थे दिन रात
जवाब देने लगे मुझे वक्त के हालत
न बने कोई बात न किसी का सर पे हाथ
तकलीफ मे न दिया किसी ने साथ

मै भटकता रहा जैसे बन के जिंदा लाश
मेरे असको मे छिपे थे टेढ़े मेढ़े राज
मानो मुझ पर ही बस मुसीबत की बरसात
बचे आंखो मे आसू ओर दुखी जज़्बात
मै दर्द भी सहू ओर न किसी से कहू

मै औरों से अंजान होकर अपने मे ही रहू मै
समझू मै कायर खुद को रक्खू खुद के सामने

देखू अपने आप को ओर गल्तियो पे हसू मै
हारू मै हिम्मत से मतलब कुछ भी न कर सकु मै
कोसू आने आप को ओर टुकड़ा टुकड़ा रौऊ मै
फिर लाइफ के आगे पन्नो पे एक ही लब्ज लिखू मै

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *