इश्क खुदा है Ishq Khuda Hai Lyrics | Tulsi Kumar

इश्क खुदा है Ishq Khuda Hai Lyrics in Hindi is written by Khushali Kumar & Baba Bulleh Shah for the movie Album starring Khushali Kumar & Nawab Ahmad. Ishq Khuda Hai song sung by Tulsi Kumar. Music is given by Sanjay-Rajee.

Song : Ishq Khuda Hai
Writer : Khushali Kumar & Baba Bulleh Shah
Movie : Album
Starring : Khushali Kumar & Nawab Ahmad
Singer : Tulsi Kumar
Music : Sanjay-Rajee

Ishq Khuda Hai Lyrics

Ishq Khuda Hai Lyrics in ENGLISH

Do kadam chalne ki chah thi
Us raste par
Jis par chalne ko hath thama tha tumne
Lagta tha bas yhi pahunchayegi
Manjil-e-safar tak
Khoj poori ho gayi
Shayad aisa ehsaas ho gaya tha
Andar ke dard abhi kuchh der pahle tak dukhte the
Girne wale to ham na the kabhi
Girane wale ka hunar to dekhiye
Hamne aah bhi kari to hame sunai bhi na di
Pighalte gaye uski saanso me har pal
Saamne wo tha to har sabra kho baithe
Sirf chaaha ki wo chahe mujhe itna
Jitna maine usko chaha
Haule se kab hua ye ki kisi aur ka hokar
Meri or dekh kar kha
Ki kami hai teri
Halke se majak ban kar rah gaye
Kuddari meri
Ab na hoga mujhse ye khel dubara
Ye khel dubara

Zehar dekh k peeta te ki kita
Ishq soch k keta te ki kita
Dil deke dil lain di aas rakhi ve buleya,
Ve buleya pyaar vi lalach naal kita
Te ki kita

Par tum mein shayad kuch khaas hai
Tumhari ankho mein bachcho ki si aas hai
Tumhari ankho k seeshe mein mera chehra dikh raha hai mujhe
Mere chehre ki rangat kya khoob dikhti hai ismein
Sochte hai ab inhe mein rahenge

Zehar dekh k peeta te ki kita
Ishq soch k keta te ki kita
Dil deke dil lain di aas rakhi ve buleya,
Ve buleya pyaar vi lalach naal kita
Te ki kita

Chal zindgi me ishk ke juye ke liye fir se taiyar hu
Sari bajiyan tu khel
Fir mujhko mitti me sab karke dekha
Ishk me hi chhipi ibadat hai
Waqt agar zindgi to ishq khuda hai
Har pal men ishq mitti me ishq hawaon me ishq
Aur kya hai baki
Ishq khuda hai
Ishq khuda hai
Ishq khuda hai

इश्क खुदा है Ishq Khuda Hai Lyrics in HINDI

दो कदम चलने की चाह थी
उस रास्ते पर
जिस पर चलने को हाथ थामा था तुमने
लगता था बस यही पहुंचाएगी
मंजिल-ए-सफर तक
खोज पूरी हो गयी
शायद ऐसा एहसास हो गया था
अंदर के दर्द अभी कुछ देर पहले तक दुखते थे
गिरने वाले तो हम न थे कभी
गिराने वाले का हुनर तो देखिये
हमने आह भी करी तो हमे सुनाई भी न दी
पिघलते गए उसकी साँसो मे हर पल
सामेन वो थ तो हर सब्र खो बैठे
सिर्फ चाहा की वो चाहे मुझे इतना
जितना मैंने उसको चाहा
हौले से कब हुआ ये की किसी और का होकर
मेरी ओर देख कर कहा
की कमी है तेरी
हल्के से मज़ाक बन कर रह गए
खुद्दारी मेरी
अब न होगा मुझसे ये खेल दुबारा
ये खेल दुबारा

जहर देख के पीता ते की कीता
इश्क सोच के कीता ते की कीता
दिल देखे दिल लैन दी आस रखी वे बुलेया
वे बुलेया प्यार वी लालच नाल कीता
ते की कीता

पर तुम मै शायद कुछ खास है
तुम्हारी आँखों मे बच्चों की सी आस है
तुम्हारी आँखों के शीशे मे मेरा चेहरा दिख रहा है मुझे
मेरे चेहरे की रंगत क्या खूब दिखती है इसमें
सोचते है अब इन्हीं मे रहेंगे

जहर देख के पीता ते की कीता
इश्क सोच के कीता ते की कीता
दिल देखे दिल लैन दी आस रखी वे बुलेया
वे बुलेया प्यार वी लालच नाल कीता
ते की कीता

चल जिंदगी में इश्क के जुए के लिए फिर से तैयार हूँ
सारी बाज़ियाँ तू खेल
फिर मुझको मिट्टी मे सब करके देखा
इश्क मे ही छुपी इबादत है
वक्त अगर जिंदगी तो इश्क खुदा है
हर पल में इश्क मिट्टी मे इश्क हवाओं मे इश्क
और क्या है बाकी

इश्क खुदा है
इश्क खुदा है
इश्क खुदा है
इश्क खुदा है

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *