क़तरा Qatra Lyrics – Stebin Ben

क़तरा Qatra Lyrics in Hindi is sung by Stebin Ben featuring Karishma Tanna and Ritwik Bhowmik and written by Sanjeev Chaturvedi, Music is given by Sanjeev Chaturvedi. 

Song : Qatra Lyrics
Singer : Stebib Ben
Cast : Karishma Tanna and Ritwik Bhowmik
Writer : Sanjeev Chaturvedi
Music : Sanjeev Chaturvedi

Qatra Lyrics Stebin Ben
Qatra Lyrics Stebin Ben

Qatra Lyrics in ENGLISH

Dil Dar-badar Hai
Aashiyan Dhoondhta Hai
Teri Aakhon Mein Yeh
Khwabgah Dhoondta Hai
Bepanah Hai Zara Meharban

Qatra Hi To Manga Hai
Samundar To Nahi Manga
Bas Ishq Hi Manga Hai
Ambar To Nahi Manga

Qatra Hi To Manga Hai
Samundar To Nahi Manga
Qatra Hi To Manga Hai
Samundar To Nahi Manga

Mere Seene Pe Rakh Hath Apna Zara
Gaur Se Sunn Meri Dhadkanein Keh Rahi
Mere Seene Pe Rakh Hath Apna Zara
Gaur Se Sunn Meri Dhadkanein Keh Rahi
Sunn Le Dil Ki Zuban Meharban

Qatra Hi To Manga Hai
Samundar To Nahi Manga
Bas Ishq Hi Manga Hai
Ambar To Nahi Manga

Qatra Hi To Manga Hai
Samundar To Nahi Manga
Qatra Hi To Manga Hai
Samundar To Nahi Manga

Aankhon Ki Aarzu Hai Tum Raho Samne
Ek Lamha Kabhi Door Jaana Nahi
Aankhon Ki Aarzu Hai Tum Raho Samne
Ek Lamha Kabhi Door Jaana Nahi
Karde Aisa Zara Meharban

Qatra Hi To Manga Hai
Samundar To Nahi Manga
Bas Ishq Hi Manga Hai
Ambar To Nahi Manga

Qatra Hi To Manga Hai
Samundar To Nahi Manga
Qatra Hi To Manga Hai
Samundar To Nahi Manga

क़तरा Qatra Lyrics in HINDI

दिल दर-बदर है
आशियाँ ढूंढता है
तेरी आँखों में ये
ख्वबगाह ढूँढता है
बेपनाह है ज़रा मेहरबान

क़तरा ही तो माँगा है
समंदर तो नही माँगा
बस इश्क़ ही माँगा है
अम्बर तो नही माँगा

क़तरा ही तो माँगा है
समंदर तो नही माँगा
क़तरा ही तो माँगा है
समंदर तो नही माँगा

मेरे सीने पे रख हाथ अपना ज़रा
गौर से सुन मेरी धड़कने कह रही
मेरे सीने पे रख हाथ अपना ज़रा
गौर से सुन मेरी धड़कने कह रही
सुन ले दिल की ज़ुबान मेहरबान

क़तरा ही तो माँगा है
समंदर तो नही माँगा
बस इश्क़ ही माँगा है
अम्बर तो नही माँगा

क़तरा ही तो माँगा है
समंदर तो नही माँगा
क़तरा ही तो माँगा है
समंदर तो नही माँगा

आँखों की आरज़ू है तुम रहो सामने
एक लम्हा कभी दूर जाना नही
आँखों की आरज़ू है तुम रहो सामने
एक लम्हा कभी दूर जाना नही
करदे एहसान ज़रा मेहरबान

क़तरा ही तो माँगा है
समंदर तो नही माँगा
बस इश्क़ ही माँगा है
अम्बर तो नही माँगा

क़तरा ही तो माँगा है
समंदर तो नही माँगा
क़तरा ही तो माँगा है
समंदर तो नही माँगा

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *