रहूँ मैं मलंग Rahu Main Malang Lyrics (Title Song)

रहूँ मैं मलंग Rahu Main Malang Lyrics (Malang Title Track / Song lyrics in Hindi) is written by Kunaal Vermaa & Harsh Limbachiya for the movie Malang starring Aditya Roy Kapur & Disha Patani. Rahu Main Malang song sung by Ved Sharma.

Song : Rahu Main Malang
Writer : Kunaal Vermaa & Harsh Limbachiya
Movie : Malang
Starring : Aditya Roy Kapur & Disha Patani
Singer : Ved Sharma

Rahu Main Malang (Title Song) Lyrics

Rahu Main Malang Lyrics in ENGLISH

Kaafira Toh Chal Diya, uss Safar Ke Sang
Kaafira Toh Chal Diya, uss Safar Ke Sang

Manzilein Na Dor Koyi Leke Apna Rang
Rahu Main Malang, Malang, Malang
Rahu Main Malang, Malang, Malang

Rahu Main Malang, Malang, Malang
Main Malang Haye Re

Main Bairagi Sa Jeeu Ye Bhatakta Man
Main Bairagi Sa Jeeu Ye Bhatakta Man

Ab Kahan Le Jayega Ye Awarapan
Rahu Main Malang, Malang, Malang
Rahu Main Malang, Malang, Malang

Rahu Main Malang, Malang, Malang
Main Malang, Haye Re

Hai Nasibon Mein Safar To
Main Kahi Bhi Kyun Rukun

Oh Ho Oh

Hai Nasibon Mein Safar Toh
Main Kahi Bhi Kyun Rukun
Chodke Aaya Kinare
Beh Saku Jitna Bahun

Din Guzarte Hi Rahe, Yun Hi Be-Mausam
Raaste Tham Jaye Par, Ruk Na Paye Hum
Rahu Main Malang, Malang, Malang
Rahu Main Malang, Malang, Malang

Rahu Main Malang, Malang, Malang
Main Malang Haye Re

Rubaru Khud Se Huya Hu
Mujhme Mujhko Tu Mila

Oh Ho Oh

Rubaru Khudse Huwa Hu
Mujhme Mujhko Tu Mila

Badalo Ke Iss Jahan Mein
Aasmaan Tujhme Mila
Pighli Hai Ab Raat Bhi
Hai Sehar Bhi Ye Nam

Naa Khuda Main To Raha
Ban Gaya Tu Dharam
Rahu Main Malang, Malang, Malang
Rahu Main Malang, Malang, Malang

Rahu Main Malang, Malang, Malang
Main Malang Haye Re

रहूँ मैं मलंग Rahu Main Malang Lyrics in HINDI

काफ़िर तो चल दिया उस सफ़र के संग
काफ़िर तो चल दिया उस सफ़र के संग

मंजिलें ना डोर कोई ले के अपना रंग
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग

रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
मैं मलंग हाय रे

मैं बैरागी सा जियूं , ये भटकता मन
मैं बैरागी सा जियूं , ये भटकता मन

अब कहाँ ले जायेगा, ये आवारापन
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग

रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
मैं मलंग हाय रे

है नसीबों में सफर तो
मैं कहीं भी क्यों रुकूँ

ओ हो ओ

है नसीबों में सफर तो
मैं कहीं भी क्यों रुकूँ
छोडके आए किनारे
बह सकूँ जितना बहूँ

दीं गुजरते ही रहे, यूं ही बे-मौसम
रास्ते थम जाए पर, रूक न पाये हम
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग

रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
मैं मलंग हाय रे

रूबरू खुद से हुआ हूँ
मुझमें मुझको तू मिला

ओ हो ओ

रूबरू खुद से हुआ हूँ
मुझमें मुझको तू मिला

बादलों के इस जहाँ में
आसमां तुझमें मिला
पिघली है अब रात भी
है सहर भी ये नम

ना खुदा में तो रहा
बन गया तू धरम
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग

रहूँ मैं मलंग मलंग मलंग
मैं मलंग हाय रे

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *