तन्हाई Tanhaai Lyrics | Tulsi Kumar

तन्हाई Tanhaai Lyrics in Hindi is written by Sayeed Quadri song sung by Tulsi Kumar. Photography director is by Girish Kant, Video is featured by Zain Imam & Tulsi Kumar. The music of this song is given by Sachet Parampara.

Song : Tanhaai
Writer : Sayeed Quadri
Starring : Zain Imam, Tulsi Kumar
Singer : Tulsi Kumar
Music : Sachet Parampara

Tanhaai Lyrics Tulsi Kumar

Tanhaai Lyrics in ENGLISH

Toota Hai Bohat Yeh Dil Mera
Aansu Hain Badi Tanhaai Hai
Jab Se Teri Baahon Mein Humein
Aane Ki Huyi Manaahi Hai

Kuchh Yaadein Jo Teri Baaki Hain
Jo Dil Ko Bohat Sataati Hain
Kaate Se Nahi Katta Lamha
Kyun Dedi Tanhaai

Kuchh Baatein Jo Teri Baaki Hain
Jo Humko Bohat Rulati Hain
Jeene Ko Nahi Ab Dil Karta
Kyun Dedi Tanhaai

Woh Hath Jo Kal Tak Hath Mein Tha
Ab Chhune Se Katrata Hai
Har Lamha Kal Tak Sath Mein Tha
Ab Milne Tak Ni Aata Hai

Yeh Soch Ke Neend Na Aati Hai
Aur Dil Mein Ek Udaasi Hai
Kyun Toone Kiya Humko Tanha
Kyun Dedi Yeh Judayi

Hothon Pe Hansi Na Aati Hai
Aakhein Bhi Namm Ho Jaati Hain
Achcha Hi Nahi Lagta Jeena
Kyun Dedi Yeh Judayi

Iss Ishq Mein Tere Hathon Se
Yahi Cheez Humein Mil Paayi Hai
Kyun Dedi Toone Judayi Hai
Kyun Dedi Tanhaai

Tanhaai Hai Humsafar
Tanhaai Hai Har Dagar
Tanhaai Hai Har Pehar
Tanhaai Shaam-o-sehar

Tanhaai Hai Har Taraf
Tanhaai Hai Had-e-nazar
Tanhaai Hai Arsh Tak
Tanhaai Hai Ab Farsh Tak

Mere Hisse Mein
Hisse Mein Gham Hi Aaye Hain
Tere Hisse Mein
Hisse Mein Khusiyan

Meri Aakhon Mein
Aakhon Mein Ashq Aaye Hai
Tere Hothon Pe Hothon Pe Hasna

Toota Hai Bohat Yeh Dil Mera
Aansu Hain Badi Tanhaai Hai
Jab Se Teri Baahon Mein Humein
Aane Ki Huyi Manaahi Hai

“Waqt Sikha Deta Hai Ishq Me Tanhai Ko Sahena,
Par Zindagi Me Kisi Ko Bhi Rab Tanhaiyan Na Dena”

तन्हाई Tanhaai Lyrics in HINDI

टूटा है बहोत ये दिल मेरा
आसूं हैं बड़ी तन्हाई है
जब से तेरी बाहों में हमें
आने की हुई मनाही है

कुछ यादें जो तेरी बाकी हैं
जो दिल को बोहत सताती हैं
काटे से नहीं कटता लम्हा
क्यूँ देदी तन्हाई

कुछ बातें जो तेरी बाकी है
जो हमको बहोत रुलाती हैं
जीने को नहीं अब दिल करता
क्यूँ देदी तन्हाई

वो हाथ जो कल तक हाथ में था
अब छूने से कतराता है
हर लम्हा कल तक साथ में था
अब मिलने तक नहीं आता है

ये सोच के नींद न आती है
और दिल में एक उदासी है
क्यूँ तूने किया हमको तन्हा
क्यूँ देदी ये जुदाई

होठों पे हसी ना आती है
आँखें भी नम हो जाती हैं
अच्छा ही नहीं लगता जीना
क्यूँ देदी ये जुदाई

इस इश्क में तेरे हाथों से
यही चीज़ हमें मिल पाई है
क्यूँ देदी तूने जुदाई है
क्यूँ देदी तन्हाई

तन्हाई है हमसफ़र
तन्हाई है हर डगर
तन्हाई है हर पहर
तन्हाई शामों शहर

तन्हाई है हर तरफ
तन्हाई है हद ए नज़र
तन्हाई है अर्श तक
तन्हाई है अब फर्श तक

मेरे हिस्से में
हिस्से में ग़म ही आये हैं
तेरे हिस्से में
हिस्से में खुशियाँ

मेरी आँखों में
आँखों में अश्क आये हैं
तेरे होठों पे
होठों पे हँसना

टूटा है बहोत ये दिल मेरा
आसूं है बड़ी तन्हाई है
जब से तेरी बाहों में हमें
आने की हुई मनाही है

“वक़्त सिखा देता है इश्क में तन्हाई को सहना,
पर ज़िन्दगी में किसी को भी रब तन्हाईयाँ ना देना”

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *