ज़िंदा दिली Zinda Dili Lyrics – Arijit Singh

ज़िंदा दिली Zinda Dili Lyrics in Hindi is sung by Arijit Singh for an Album Bhoomi 2020. The song is written by Niranjan Iyengar. Music is composed and produced by Salim – Sulaiman.

Song : Zinda Dili
Album : Bhoomi 2020
Singer : Arijit Singh
Writer : Niranjan Iyengar
Music : Salim – Sulaiman

Zinda Dili Lyrics – Arijit Singh
Zinda Dili Lyrics – Arijit Singh

Zinda Dili Lyrics in ENGLISH

Pal Do Pal Ki Hai
Yeh Apni Zindagaani
Jee Le Toh Suhaani
Ya Phir Hai Bemaani

Khwaabon Ke Dum Pe Hai
Iski Har Ravaani
Iski Dhun Pe Naache
Hoke Hum Roohaani

Aankhon Ne Aankhon Se
Nazron Ki Zabaani
Lafzon Se Chhupaai Hai
Yeh Woh Kahaani

Din Ke Saaye Mein Ho
Raatein Bhi Begaani
Kar Dein Hum Fanaa
Apni Bezubaani

Zinda Dili…
Zinda Dili…

Zinda Dili Zinda Dili
Zinda Dili Zinda Dili
Zinda Dili Zinda Dili
Zinda Dili Zinda Dili

Zinda Dili O..O..

Roothi Raaton Ki Hai
Jhoothi Yeh Siyaahi
Sooni Saanson Se
Tu Paa Lega Judaai

Jeena Hai Tujhe To
De De Yeh Gawaahi
Likh De Aasmaan Pe
Apni Hi Rihaai

Sun Le Har Ghadi
Jo Deti Hai Duhaai
Apne Haath Me Hai
Apni Hi Rubaai

Girti Boondon Si Hai
Duniya Yeh Banaai
Udte Lamhon Ne Hai
Hum Yeh Sikhaai

Zinda Dili…
Zinda Dili…

Soyi Hain Jo Khushi
Saason Mein Jo Basi
Rahein Nayi Mili
Mili…
Zinda Dili…

ज़िंदा दिली Zinda Dili Lyrics in HINDI

पल दो पल की है
ये अपनी ज़िंदगानी
जी ले तो सुहानी
या फिर है बेईमानी

ख्वाबों के दम पे है
इसकी हर रवानी
इसकी धुन पे नाचे
होके हम रूहानी

आँखों ने आँखों से
नज़रों की ज़ुबानी
लफ़्ज़ों से छुपायी है
ये वो कहानी

दिन के साए में हो
रातें भी बेगानी
कर दें हम फ़ना
अपनी बेज़ुबानी

ज़िंदा दिली …
ज़िंदा दिली …

ज़िंदा दिली ज़िंदा दिली
ज़िंदा दिली ज़िंदा दिली
ज़िंदा दिली ज़िंदा दिली
ज़िंदा दिली ज़िंदा दिली..

ज़िंदा दिली ओ.. ओ..

रूठी रातों की है
झूठी ये सियाही
सूनी साँसों से
तू पा लेगा जुदाई

जीना है तुझे तो
दे दे ये गवाही
लिख दे आसमान पे
अपनी ही रिहाई

सुन ले हर घड़ी
जो देती है दुहाई
अपने हाथ में है
अपनी ही रुबाई

गिरती बूँदों सी है
दुनिया ये बनाई
उड़ते लम्हों ने है
हुमको ये सिखाई

ज़िंदा दिली …
ज़िंदा दिली …

सोई है जो खुशी
साँसों में जो बसी
राहें नयी मिली
मिली
ज़िंदा दिली …

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *